[30 मिनट] में जानें शेयर मार्केट क्या है और इसके BASIC | Learn Share Market Kya Hai in Hindi

नमस्कार दोस्तों, क्या आप भी शेयर मार्केट के बारे में जानना चाहते हैं? कि शेयर मार्केट क्या है और यह कैसे काम करता है? हम शेयर मार्केट के बारे में कैसे सीख सकते हैं और इससे पैसे कैसे कमा सकते हैं?

तो आज इस पोस्ट में हम इन सभी चीजों के बारे में बात करने वाले हैं और इसके साथ ही कुछ और विषयों के बारे में भी जानने वाले हैं। जिससे आपको यह समझने में मदद मिलेगी कि शेयर बाजार क्या है और इससे पैसे कैसे कमाए जाते हैं।

जो लोग शेयर बाजार में नए होते हैं उनके मन में कई सवाल होते हैं, जो उन्हें काफी परेशान करते हैं। इस पोस्ट के अंत तक आपको ऐसे बहुत से सवालों के जवाब मिल जायेंगे

तो इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें।

शेयर मार्केट क्या है? (Share Market Kya Hai In Hindi)

विषय सूची

शेयर बाजार एक ऐसी जगह है जहां हम के शेयर, बांड, म्यूच्यूअल फण्ड, करेंसी और कमोडिटी में ट्रेडिंग करते है

इसे सरल शब्दों में समझें तो: यहां हम कंपनी के शेयर खरीदते और बेचते हैं, और शेयर खरीदने का मतलब है कंपनी में हिस्सेदारी खरीदना। आप जिस कंपनी के जितने शेयर खरीदते हैं, आप उस कंपनी के उतने शेयर के मालिक बन जाते हैं। और जब कंपनी लाभ कमाती है, तो आपको उसका लाभ मिलता है, और जब कंपनी में नुकसान होता है, तो आप को भी नुकसान होता है।

इसलिए किसी भी कंपनी में निवेश करने से पहले आपको उस कंपनी के बारे में अच्छी जानकारी होनी चाहिए कि वह क्या करती है और आने वाले दिनों में वह कैसा प्रदर्शन कर सकती है।

किसी भी शेयर को खरीदने और बेचने के लिए शेयर बाजार के खुलने और बंद होने का समय निर्धारित किया गया है

यह बाजार सोमवार से शुक्रवार तक सुबह 9:15 बजे से दोपहर 3:30 बजे तक खुला रहता है, जिसमें हम किसी भी शेयर को खरीद और बेच सकते हैं।

किसी शेयर को खरीदने के लिए हमें कही जाने की आवश्यकता नहीं होती बस इसके लिए हमारे पास एक ट्रेडिंग और डीमैट अकाउंट होना चाहिए, और उसके बाद ब्रोकर आपको एक ऑनलाइन ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म की सुविधा प्रदान करता है। जिसके जरिये आप किसी शेयर को घर बैठे ही खरीदें और बेचें सकते है।

क्या आप जानते हैं कि कोई भी कंपनी शेयर बाजार में कहां लिस्ट होती है? यदि आप नहीं जानते हैं, तो मैं आपको बता दूं कि शेयर बाजार में कोई भी कंपनी स्टॉक एक्सचेंज में लिस्ट होती है और भारत में दो सबसे प्रसिद्ध स्टॉक एक्सचेंज बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) हैं।

चलिए अब इससे आगे बढ़ते है और जानते है शेयर मार्केट कैसे काम करता है

Learn Share Market Kya Hai in Hindi

शेयर मार्केट कैसे काम करता है?

शेयर मार्केट कैसे काम करता है, यह जानने के लिए आपको इसकी कई बेसिक चीजों के बारे में पता होना चाहिए, जैसे

  • शेयर मार्केट क्या है? (इसके बारे में ऊपर बताया गया है)
  • शेयर मार्केट कितने प्रकार के होते हैं?
  • स्टॉक एक्सचेंज क्या है?
  • शेयर मार्केट में ट्रेडिंग और निवेश क्या है?
  • शेयर मार्केट में पैसा कैसे लगाएं

इन सबके बारे में जानने के बाद आप समझ पाएंगे कि शेयर बाजार में क्या होता है और यह कैसे काम करता है।

शेयर मार्केट कितने प्रकार के होते हैं

शेयर मार्केट दो प्रकार के होते हैं:

  • प्राइमरी मार्केट
  • सेकेंडरी मार्केट

प्राइमरी मार्केट क्या है और इसमें IPO क्या होता है

प्राइमरी मार्केट का मतलब है कि जब कोई कंपनी पहली बार शेयर बाजार में लिस्ट होने के लिए आती है, तो वह एक IPO (Initial Public Offering) लाती है जिसमें वह पहली बार अपने शेयर और बांड को सार्वजनिक रूप से पेश करती है ताकि आम लोग इसमें निवेश कर सकें।

प्राइमरी मार्केट में, कंपनियां अपने शेयर और बांड सीधे निवेशकों को बेचती हैं; इसके साथ ही, कंपनी प्राथमिक बाजार से पैसा इकट्ठा करने के लिए कुछ अन्य तरीकों को भी अपनाती है, जैसे IPO, Private Placement, Rights Issue आदि।

कंपनी ऐसा इसलिए करती है ताकि वह प्राइमरी मार्केट से अधिक धन इकट्ठा कर सके और इस धन का उपयोग अपने व्यवसाय को बढ़ाने, कर्ज से निपटने और एक नया व्यवसाय स्थापित करने के लिए कर सके।

प्राइमरी मार्केट में केवल शेयर और बांड को ख़रीदा जा सकता हैं; उन्हें बेचा नहीं जा सकता। इन्हें बेचने के लिए निवेशक को सेकेंडरी मार्केट में जाना पड़ता है।

प्राइमरी मार्केट में किसी कंपनी के IPO में निवेश के लिए आपको अलग से आवेदन करना होगा।

कोई कंपनी शेयर बाजार में कैसे लिस्ट होती है?

किसी भी कंपनी को शेयर बाजार में लिस्ट होने के लिए सबसे पहले IPO लाना पड़ता है और IPO लाने के लिए उन्हें कुछ प्रक्रिया का पालन करना पड़ता है, जो इस प्रकार है:

  • सबसे पहले कंपनी को अपनी IPO File करने के लिए कुछ Investment Banks को Hire करना होता है
  • फिर ये Investment Banks उस कंपनी को IPO से related गाइड करेंगे और उनका DRHD बनायेंगे
  • DRHD का मतलब (Draft Red Hiring Prospects) होता है जिसमें कंपनी की Business History, Financial Statement History, Company Promoters and Management की Statement History, Company के Future Plan आदि की जानकारी होती है
  • Investment Banks कंपनी के DRHD File बनाने में मदद करते है
  • और फिर यह DRHD File SEBI को Submit कर दिया जाता है
  • फिर SEBI DRHD में दी गई सभी Statment को Check करती है
  • और अगर SEBI को कुछ और Information चाहिए होती है तो वो उस कंपनी को Inform करते है और फिर कंपनी SEBI को वह Information देती है और फिर जाकर SEBI कंपनी को IPO लाने के लिए Permission देती है जिसके बाद ही कोई कंपनी IPO ला सकती है
IPO कितने प्रकार के होता है (What are the two types of IPO?)

IPO भी दो तरह के होते हैं

  • फिक्स्ड प्राइस (Fixed Price IPO)
  • बुक बिल्डिंग (Book Building IPO)
Fixed Price IPO क्या है?

फिक्स्ड प्राइस IPO में कंपनी खुद शेयर की कीमत तय करती है, जिसके बाद निवेशक को उसी कीमत पर शेयर खरीदना होता है।

Book Building IPO क्या है?

बुक बिल्डिंग IPO में कंपनी के शेयर की प्राइस Band तय करती है। Band का मतलब एक सीमा है जिसके बीच इस शेयर बेचा जाएगा। आइए इसे एक उदाहरण से समझते हैं।

एक कंपनी शेयर बाजार में लिस्ट होने के लिए एक IPO लाती है और यह IPO बुक-बिल्डिंग पद्धति के माध्यम से लाया जाता है, जिसमें बैंक कंपनी के सभी वित्तीय विवरणों की जांच करता है और यह पता लगाता है कि वास्तविक शेयर में की कीमत क्या होनी चाहिए। फिर बैंक एक Band तैयार करते हैं जिसमें कंपनी के शेयर की दो Value होती हैं जैसे 100 से 110 और यह हर कंपनी के हिसाब से अलग हो सकती है

इसके बाद, निवेशक को अब इन कीमतों के लिए बोली लगानी होगी, और जिस कीमत पर अधिक लोग बोली लगाएंगे, वह अंतिम कीमत मानी जाएगी जिस पर शेयर जारी किए जाएंगे।

Price Band में सबसे कम कीमत को Floor Price कहा जाता है और Price Band में सबसे ज्यादा कीमत को Cap Price कहा जाता है।

IPO कितने दिन खुला रहता है

IPO तीन दिनों तक खुला रहता है, जिसके दौरान कंपनी इन्वेस्टर से धन एकत्र करती है और इन्वेस्टर को अपने शेयर प्रदान करती है, जिससे इन्वेस्टर को कंपनी में हिस्सेदारी मिलती है और कंपनी को अपना व्यवसाय बढ़ाने के लिए धन मिलता है।

और फिर बाद में कंपनी NSE और BSE में लिस्ट हो जाती है, जिसके बाद कोई भी आसानी से इस कंपनी के शेयर खरीद और बेच सकता है।

सेकेंडरी मार्केट क्या है

सेकेंडरी मार्केट वह मार्केट है जहाँ पहले से ही कई सारी कंपनियां NSE और BSE एक्सचेंज पर लिस्ट होती है जिनके शेयर में रोज़ाना कारोबार होता है

और कुछ नई कंपनियां होती है जो IPO के जरिये इसमें लिस्ट हो जाती है जिसके बाद इनके शेयरो में कारोबार होने लगता है

सेकेंडरी मार्केट में उन शेयरो को भी बेचा जा सकता है जो IPO के दौरान ख़रीदे गए थे इस मार्केट में होने वाली लेनदेन खरीदारों और विक्रेताओं के बिच होती है न की कंपनी के बिच

सेकेंडरी मार्केट में कोई भी व्यक्ति किसी भी शेयर में निवेश कर सकता इसके लिए उसके पास डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट होना चाहिए

स्टॉक मार्केट में स्टॉक एक्सचेंज क्या है

स्टॉक एक्सचेंज शेयर बाजार में वह स्थान है जहां सभी कंपनियां लिस्ट होती हैं। ये एक्सचेंज स्टॉक ब्रोकर्स के माध्यम से शेयरों और अन्य वित्तीय साधनों में ट्रेडिंग की सुविधा प्रदान करते हैं।

हम किसी स्टॉक को तभी खरीद और बेच सकते हैं जब वह किसी एक्सचेंज में लिस्ट हो।

स्टॉक एक्सचेंज खरीदारों और विक्रेताओं के लिए एक केंद्र के रूप में कार्य करता है जिसके माध्यम से लोग शेयर और अन्य वित्तीय साधनों में व्यापार कर सकते हैं।

भारत में कितने स्टॉक एक्सचेंज हैं (how many stock exchanges are there in india)

भारतीय स्टॉक मार्केट में वैसे तो 35 स्टॉक एक्सचैंजेस थे लेकिन इसमें से ज्यादातर स्टॉक एक्सचैंजेस अभी बंद हो चुके है और जिसमे से अभी फ़िलहाल 7 एक्सचैंजेस है जो चल रहे है और इसमें से भी एक एक्सचेंज सितम्बर 2023 में बंद होने वाला है जिसके बाद सिर्फ 6 एक्सचेंज ही रह जायेंगे जिसमे हम ट्रेड कर पाएंगे

भारत में कुल कितने स्टॉक एक्सचेंज हैं? (Stock Exchange list 2023)

यहां हमने भारत में स्थित सभी स्टॉक एक्सचेंजों की सूची दी है (list of stock exchanges in india), जिनमें से अधिकांश वर्तमान में बंद हो चुकी हैं।

क्र.सं.स्टॉक एक्सचेंज के नामएक्सचेंज उपस्थिति
1.Ahmedabad Stock Exchange LtdApr 02, 2018
2.Ace Derivatives and Commodity Exchange Limited, AhmedabadDec 31, 2018
3.Bombay Stock Exchange Ltd. (BSE)अभी है
4.Bangalore Stock Exchange LtdDec 26, 2014
5.Bhubaneswar Stock Exchange LtdFeb 09, 2015
6.Bombay Commodity Exchange Limited (BCEL)Oct 28, 2016
7.Calcutta Stock Exchange Ltd. (CSE)अभी है
8.Coimbatore Stock Exchange LtdApr 3, 2013
9.Cochin Stock Exchange LtdDec 23, 2014
10.Cotton Association of India (CAI)Dec 29, 2016
11.Delhi Stock Exchange LtdJan 23, 2017
12.Gauhati Stock Exchange LtdJan 27, 2015
13.Hapur Commodity Exchange LtdJun 29, 2018
14.Inter-Connected Stock Exchange of India LtdDec 08, 2014
15.Indian Commodity Exchange Limitedअभी है
16.India Pepper and Spice Trade Association, Kochi (IPSTA)Jan 10, 2018
17.Jaipur Stock Exchange LtdMar 23, 2015
18.Ludhiana Stock exchange LtdDec 30, 2014
19.Metropolitan Stock Exchange of India Ltdअभी है (Sep 15, 2023)
20.Multi Commodity Exchange of India Ltd.अभी है
21.Magadh Stock ExchangeMay 08, 2019
22.Madras Stock Exchange LtdMay 14, 2015
23.Madhya Pradesh Stock Exchange LtdJun 09, 2015
24.Mangalore Stock ExchangeMar 3, 2014
25.National Stock Exchange of India Ltd. (NSE)अभी है
26.National Commodity & Derivatives Exchange Ltd.अभी है
27.OTC Exchange of IndiaMar 31, 2015
28.Pune Stock Exchange LtdApr 13, 2015
29.Rajkot Commodity Exchange limitedJan 09, 2018
30.Saurashtra Kutch Stock Exchange LtdApr 5, 2013
31.The Spice and Oilseeds Exchange Limited, SangliApr 12, 2017
32.The Hyderabad Securities and Enterprises Ltd (erstwhile Hyderabad Stock Exchange)Jan 25, 2013
33.Uttar Pradesh Stock Exchange LtdJun 09, 2015
34.Universal Commodity Exchange Limited (UCX)Mar 16, 2018
35.Vadodara Stock Exchange LtdNov 09, 2015

भारत में वर्तमान में कितने स्टॉक एक्सचेंज काम कर रहे हैं? (How many stock exchanges are currently working in India?)

यहां हमने स्टॉक एक्सचेंज की सूची दी है जो वर्तमान समय में मौजूद हैं और जिन पर शेयर और अन्य वित्तीय सामग्री का दैनिक रूप से लेन देन किया जाता है।

क्र.सं.मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंज के नामउपस्थित
1.Bombay Stock Exchange Ltd. (BSE)अभी है
2.Calcutta Stock Exchange Ltd. (CSE)अभी है
3.Indian Commodity Exchange Limitedअभी है
4.Metropolitan Stock Exchange of India Ltdअभी है (Sep 15, 2023)
5.Multi Commodity Exchange of India Ltd.अभी है
6.National Stock Exchange of India Ltd. (NSE)अभी है
7.National Commodity & Derivatives Exchange Ltd.अभी है
List of stock exchange by SEBI

इनमे से सबसे ज्यादा प्रसिद्ध एक्सचेंज NSE (नेशनल स्टॉक एक्सचेंज) और BSE (बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज) है और इन दोनों एक्सचेंजों के जरिए हम किसी भी स्टॉक में सबसे ज्यादा निवेश और ट्रेडिंग करते हैं।

भारतीय शेयर मार्केट में NSE क्या है

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज भारत में सबसे बड़ा और तकनीकी रूप से अग्रणी स्टॉक एक्सचेंज है। यह एक्सचेंज 1992 में मुंबई में स्थापित किया गया था ट्रेडिंग के मामले में यह दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है। इसके वीसैट टर्मिनल भारत के 320 शहरों में फैले हुए हैं। NSE आधुनिक और पूरी तरह से स्वचालित स्क्रीन-आधारित इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग सिस्टम प्रदान करने वाला देश का पहला एक्सचेंज है।

NSE पर 1600 से अधिक कंपनियां लिस्ट हैं और यह पता लगाना मुश्किल हो सकता है कि क्या हम NSE के समग्र प्रदर्शन की जांच करना चाहते हैं। इस समस्या को हल करने के लिए NSE ने Nifty नाम का एक इंडेक्स बनाया।

Nifty NSE पर लिस्ट 50 सबसे बड़ी और सबसे अधिक liquidity वाली कंपनियों से बना है, Nifty को Nifty 50 भी कहा जाता है। Nifty की मदद से हम NSE के समग्र प्रदर्शन के बारे में बता सकते हैं।

Nifty 50 भारतीय शेयर बाजार में एक बेंचमार्क है जिसका उपयोग करके हम भारतीय शेयर बाजार की वित्तीय स्थिति की जांच कर सकते हैं।

निफ्टी 50 के बारे में अधिक जानने के लिए इस पोस्ट को पढ़ें जहां हमने निफ्टी 50 के बारे में विस्तार से बताया है

Nifry 50 क्या है और यह कैसे काम करता है इसमें ट्रेडिंग करके पैसे कैसे कमाए

भारतीय शेयर मार्केट में BSE क्या है

मुंबई स्टॉक एक्सचेंज भारत और एशिया का सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज है, जो महाराष्ट्र राज्य की राजधानी मुंबई में स्थित है। इसकी स्थापना 1875 में हुई थी। इस एक्सचेंज की पहुंच 417 शहरों तक है। मुंबई स्टॉक एक्सचेंज भारतीय शेयर बाजार में दो प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज में से एक है। दूसरा एक्सचेंज (NSE) नेशनल स्टॉक एक्सचेंज है। BSE ने अंतरराष्ट्रीय वित्तीय बाजार में भारत को अपना सर्वश्रेष्ठ स्थान दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

एशिया में सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज और देश में पहला, मुंबई स्टॉक एक्सचेंज को Securities Contract Regulation Act, 1956 के तहत स्थायी मान्यता दी गई है। इसका उद्देश्य “वैश्विक प्रतिष्ठा के एक प्रमुख भारतीय स्टॉक एक्सचेंज के रूप में उभरना” है।

BSE में 5500 से अधिक कंपनियां लिस्ट हैं और यदि हमें BSE में लिस्ट सभी कंपनियों के प्रदर्शन की जांच करनी है तो ऐसा करना मुश्किल हो सकता है। क्योंकि इसके लिए हमें सभी कंपनियों के चार्ट को देखना होगा जिसमें काफी समय लगने वाला है।

इस समस्या को दूर करने के लिए BSE ने Sensex के नाम से एक Index बनाया। यह Index हमें BSE में लिस्ट सभी कंपनियों के समग्र प्रदर्शन की जांच करने में मदद करता है और यह लिस्ट केवल 30 कंपनियों से बना है।

शेयर मार्केट में ट्रेडिंग और निवेश क्या है?

शेयर बाजार में ट्रेडिंग और निवेश दो अलग-अलग तरीके हैं जिससे आप शेयर बाजार से पैसा कमा सकते हैं। इनमें से एक तरीका आपको लंबे समय में कम जोखिम के साथ पैसा कमाने का मौका देगा। और दूसरे तरीके में आपको जल्दी पैसा कमाने का मौका तो मिलेगा लेकिन इसमें जोखिम अधिक होगा।

आइए एक-एक करके इन दोनों तरीकों के बारे में जानते हैं ताकि हम यह जान सकें कि इनमें क्या अंतर हैं और कौन सा हमारे लिए सबसे अच्छा रहेगा।

शेयर मार्केट में ट्रेडिंग क्या है?

शेयर बाजार में ट्रेडिंग क्या है? इसे समझने के लिए, हमने नीचे कुछ बिंदुओं पर चर्चा की है जो आपको यह समझने में मदद करेंगे कि ट्रेडिंग क्या है।

  • शेयर बाजार में ट्रेडिंग करने का मतलब है कम समय में पैसा कमाना।
  • ऐसे में लोगों की मंशा कम कीमत पर खरीदने और ज्यादा कीमत पर बेचने की होती है।
  • जिसमें वह गिरते हुए शेयर को पहले खरीदता है और फिर जैसे ही उसकी कीमत बढ़ती है उसे बेच देता है।
  • व्यापार करने के लिए आपको पूरे दिन बाजार में रहने की जरूरत है।
  • ट्रेडिंग तकनीकी विश्लेषण के आधार पर की जाती है।
  • ट्रेडिंग में आप गिरते बाजार में भी पैसा कमा सकते हैं।
  • ज्यादातर लोग ट्रेडिंग में लोस्स करते हैं।

अभी तक आप यह जान गए होंगे की ट्रेडिंग क्या है तो अब जानते है की ट्रेडिंग कितने प्रकार से की जाती है और किस तरह की ट्रेडिंग आपके लिए सबसे अच्छी साबित होगी।

ट्रेडिंग कितने प्रकार की होती है?

शेयर बाजार में ट्रेडिंग चार प्रकार की होती है, जो इस प्रकार है:

  • Positional Trading
  • Swing Trading
  • Day Trading
  • Scalping Trading
Positional trading क्या है

पोजिशनल ट्रेडिंग तब होती है जब हम कोई शेयर खरीदते हैं और उसे कुछ महीनों से लेकर एक साल तक अपने पास रखते हैं। इस समय अवधि को ही पोजिशनल ट्रेडिंग कहा जाता है।

Swing trading क्या है

स्विंग ट्रेडिंग तब होती है जब हम कोई शेयर खरीदते हैं और उसे कुछ दिनों या कुछ हफ्तों के लिए अपने पास रखते हैं। इस समय अवधि को स्विंग ट्रेडिंग कहा जाता है।

स्विंग ट्रेडिंग के बारे में अधिक जानने के लिए इस पोस्ट को पढ़ें, जिसमें हमने विस्तार से बताया है कि स्विंग ट्रेडिंग क्या है, स्विंग ट्रेडिंग कैसे करें और इससे पैसे कैसे कमाएं।

Day trading क्या है

डे ट्रेडिंग को Intraday Trading भी कहा जाता है, जिसमें हम एक दिन के भीतर किसी स्टॉक को खरीदते हैं और उसी दिन उसे बेच देते हैं। इस समय अवधि को डे ट्रेडिंग कहा जाता है।

इंट्राडे ट्रेडिंग के बारे में अधिक जानने के लिए इस पोस्ट को पढ़ें, जिसमें हमने विस्तार से बताया है कि इंट्राडे ट्रेडिंग क्या है, इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे करें और इससे पैसे कैसे कमाएं।

Scalping trading क्या है

स्केलिंग ट्रेडिंग वह है जिसमें हम कुछ ही मिनटों में शेयर खरीदते और बेचते हैं; इस समय अवधि को Scalping कहा जाता है।

स्कैल्पिंग ट्रेडिंग के बारे में अधिक जानने के लिए इस पोस्ट को पढ़ें, जिसमें हमने विस्तार से बताया है कि स्कैल्पिंग ट्रेडिंग क्या है, स्कैल्पिंग ट्रेडिंग कैसे करें और इससे पैसे कैसे कमाएं।

शेयर मार्केट में ट्रेडिंग कैसे करे

शेयर बाजार में ट्रेडिंग करने के लिए सबसे पहले आपके पास एक ट्रेडिंग और डीमैट अकाउंट होना चाहिए जिससे आप किसी भी शेयर को खरीद और बेच सकते हैं।

इसके बाद आपको सही स्टॉक चुनना होगा जिसमें आप ट्रेड करना चाहते हैं। सही स्टॉक वही होता है जिसमें वोलैटिलिटी और लिक्विडिटी ज्यादा हो जिससे किसी भी शेयर को आसानी से खरीदा और बेचा जा सके।

इसके बाद आपको उस स्टॉक के चार्ट को एनालाइज करना है जिससे पता चलेगा की इसमें किस तरह की ट्रेडिंग करनी है। पोजिशनल ट्रेडिंग, स्विंग ट्रेडिंग, डे ट्रेडिंग या स्केलिंग ट्रेडिंग

किसी भी प्रकार की ट्रेडिंग को चुनने के बाद आपको उसमें Entry लेने के लिए सही समय का इंतजार करना होता है। इसके लिए आप इसका टेक्निकल एनालिसिस कर सकते हैं, जो किसी भी स्टॉक में Entry और Exit लेने में आपकी मदद करता है।

एक बात का हमेशा ध्यान रखें: शुरुआत में आपको कम पैसों में ट्रेड करना होता है, और जैसे-जैसे आपका अनुभव बढ़ता है, आपको धीरे-धीरे पूंजी बढ़ानी होती है।

शुरुआत में ज्यादा पैसा लगाने से आपको ज्यादा नुकसान हो सकता है क्योंकि शुरुआत में हमें समझ नहीं आता कि अगर शेयर की कीमत गिर रही है तो हमें क्या करना चाहिए। अगर हमें उस शेयर से नुकसान हो रहा है, तो भी हम उस शेयर से बाहर नहीं निकल पाते, क्योकि हमें लगता है कि इसकी कीमत फिर से बढ़ जाएगी। और जैसे ही बढ़ेगी हम इसे बेचकर बाहर निकल जायेंगे लेकिन ऐसा नहीं होता और जिसके कारण हमें अधिक नुकसान उठाना पड़ता है।

शेयर बाजार में एक सफल व्यापारी बनने के लिए आपको तकनीकी विश्लेषण का ज्ञान होना चाहिए क्योंकि यह आपको किसी भी स्टॉक में ट्रेडिंग के अवसर खोजने और इसमें प्रवेश और निकास का निर्णय लेने में मदद करता है। तकनीकी विश्लेषण के कारण हम गलत ट्रेड लेने से बच सकते हैं।

इसके साथ-साथ हमें Trading psychology पर भी ध्यान देना चाहिए, जो हमें गलत निर्णय लेने से रोकता है और एक नियम से काम करने पर मजबूर करता है।

शेयर मार्केट में निवेश क्या है?

शेयर बाजार में निवेश करने का मतलब स्टॉक, म्यूचुअल फंड, बॉन्ड और अन्य निवेश साधनों में पैसा लगाना है ताकि अगर भविष्य में वे बढ़ते हैं तो हमारा पैसा भी बढ़ सके।

शेयर बाजार में निवेश करने से हम ब्याज, लाभांश और स्टॉक विभाजन जैसे अनुलाभों का लाभ उठा सकते हैं।

शेयर बाजार में निवेश करना एक दीर्घकालीन खेल है जिसमें हमें कई वर्षों तक टिके रहना होता है और दीर्घकालीन में होने वाले लाभ का लुत्फ़ उठाने को मिलता है

ट्रेडिंग के मुताबिक निवेश से नुकसान होने की संभावना बहुत कम होती है जिसके कारण आपको इसमें पूरे दिन बने रहने की भी जरूरत नहीं होती।

इसमें कोई भी निवेश कर सकता है; बस उसके पास एक ट्रेडिंग और डीमैट खाता होना चाहिए।

शेयर मार्केट में पैसे कैसे लगाए। यह जानने के लिए इस पोस्ट को पढ़ें, जिसमें हमने विस्तार से बताया है कि नये लोग पहली बार शेयर मार्केट में निवेश कैसे कर सकते हैं।

निवेश कितने प्रकार के होते हैं?

शेयर बाजार में निवेश के कई विकल्प मौजूद हैं; जिसमे से कुछ सबसे लोकप्रिय हैं जैसे:

  • शेयर
  • बॉन्ड
  • कमोडिटीज
  • रियल एस्टेट
  • म्यूचुअल फंड और ईटीएफ
  • नेशनल पेंशन स्कीम (एनपीएस)

शेयर मार्केट में निवेश कैसे करे

शेयर बाजार में निवेश करना बहुत आसान है; इसके लिए आपके पास एक डीमैट अकाउंट और एक ट्रेडिंग अकाउंट होना चाहिए।

और उसके बाद ऊपर बताए गए विकल्पों में से आपको उस विकल्प को चुनना है जिसमें आपको निवेश करना है।

इसके बाद जितनी रकम आप निवेश करना चाहते हैं, उतनी रकम अपने डीमैट खाते में डालें और फिर उससे निवेश करें।

यहां इस बात का ध्यान रखे कि किसी भी तरह का निवेश करते समय आपको उसके बारे में अच्छे से रिसर्च करनी होती है और उसके बाद ही किसी में निवेश करना होता है। क्योंकि इसमें जिस तरह मुनाफा होता है, बिना विश्लेषण के किसी में निवेश करने से नुकसान भी हो सकता है।

शेयर मार्केट में पैसा कैसे लगाएं

शेयर बाजार में निवेश करने के कई तरीके हैं, जिनके बारे में हमने ऊपर बात की है; आपको केवल वह तरीका चुनना है जिसके माध्यम से आप शेयर बाजार में निवेश करना चाहते हैं।

आमतौर पर ज्यादातर लोग शेयर बाजार में दो तरह से पैसा लगाते हैं: पहला स्टॉक में और दूसरा म्यूचुअल फंड में। यह आपको तय करना है कि आप किस तरह से पैसा लगाना चाहते हैं।

अगर आप शेयर में पैसा लगाना चाहते हैं तो आपको यह भी तय करना होगा कि आप उनमें लंबी अवधि के लिए निवेश करना चाहते हैं या छोटी अवधि के लिए।

अगर आप Long-Term के लिए पैसे लगाना चाहते है तो इसमें आपको अपनी पसंद की कंपनी के शेयर को चुनना होगा और फिर उस शेयर में 5 से 10 साल के लिए निवेश करना होगा और फिर इसके भविष्य में बढ़ने का इंतजार करना होगा इस तरह की अवधि के लिए स्टॉक मार्केट में पैसे लगाने को इन्वेस्टमेंट कहते है

और अगर आप कम समय में शेयर बाजार से पैसा कमाने आए हैं तो आप इसमें ट्रेड करने आए हैं। इसके लिए आपको पहले टेक्निकल एनालिसिस सीखना होगा और Paper Trading के जरिए सटीकता लानी होगी और जब आप इसमें कुशल हो जाएंगे तो आपको कम पूंजी के साथ ट्रेडिंग की शुरुआत करनी होगी।

शेयर बाजार में पैसा लगाने की प्रक्रिया जानने के लिए इस पोस्ट को पढ़ें। [2023 में] शेयर बाजार में पैसा कैसे लगाए पूरी प्रक्रिया

शेयर कब खरीदना चाहिए

अगर कोई शेयर बाजार में पैसा लगाना चाहता है तो सही समय वह है जब बाजार बुरी तरह गिर रहा होता है जिसे मार्केट क्रैश भी कहते है इस समय मार्केट में मंदी का माहौल होता है और सब इससे अपनी पोजीशन काटकर बहार निकल रहे होते है जिससे शेयर का प्राइस बहुत गिर जाता है

अब आपको इसमें जब पैसे लगाना है जब बाजार गिरना बंद हो जाए और शेयर की प्राइस धीरे धीरे ऊपर की और जाने लगे

क्योंकि इस समय बाजार को जितना गिरना होता है वह गिर चूका होता है अब बस यह फिर से ऊपर की और जाने के लिए तैयार होता है, और यह कुछ समय बाद अपने हाई प्राइस के करीब पहुंच जायेगा

शेयर कब बेचना चाहिए

शेयर को ऐसे समय में बेचना चाहिए जब बाजार में मंदी का माहौल हो या कोई ऐसी खबर आने वाली हो जिसके चलते शेयर बाजार पर गहरा असर पड़ सकता हो। और शेयर बाजार में गिरावट आ सकती है तो उस समय आपको बाजार से निकल जाना चाहिए।

शेयर मार्केट कैसे सीखें

आज के समय में शेयर बाजार के बारे में सीखना काफी ज्यादा आसान हो गया है। और आप इसे दो तरह से सीख सकते हैं,

  1. ऑनलाइन के जरिये
  2. ऑफलाइन के जरिये

ऑनलाइन शेयर बाजार सीखने के तरीके

ऑनलाइन में, आपके पास शेयर बाजार सीखने के कई विकल्प होते हैं, जिनमें से कुछ में आपको पैसा लगाना होता है और कुछ आप मुफ्त में सीख सकते हैं, तो आइए सबसे पहले उन सभी ऑनलाइन तरीकों के बारे में जानते हैं जिनसे आप शेयर बाजार को सिख सकते हैं।

ऑनलाइन शेयर बाजार सीखने के Free तरीके

  • यूट्यूब से
  • ब्लॉग से
  • एप्लीकेशन से
  • एक नि:शुल्क कोर्स से
यूट्यूब से शेयर बाजार कैसे सीखें

यहां हम उन YouTube Channel के बारे में बात कर रहे हैं जो शेयर बाजार से Related Video बनाते हैं जिनके चैनल पर स्टॉक मार्केट से संबंधित कुछ Playlist होती हैं। जिसमें स्टॉक मार्केट के बारे में Step By Step बताया गया होता है आप उन Channel को Subscribe कर सकते हैं और उनसे शेयर मार्केट Free में सीख सकते हैं।

ब्लॉग से शेयर बाजार कैसे सीखें

यह वह Blog Website है जो केवल शेयर बाजार के बारे में पोस्ट लिखती है। इन वेबसाइटों का उद्देश्य लोगों को ब्लॉग के माध्यम से मुफ्त में शेयर बाजार के बारे में बताना है; यहां वे शेयर बाजार के जटिल तथ्यों की व्याख्या करते हैं। ताकि आम आदमी भी इसे आसानी से समझ सके और इसके बारे में जान सके।

एप्लिकेशन से शेयर बाजार कैसे सीखें

यह वह एप्लिकेशन होती है जिसमें स्टॉक मार्केट के बारे में कंटेंट होते है, जिनमें से कुछ का भुगतान किया जाता है तो कुछ मुफ्त में उपलब्ध हैं। आपको उन निःशुल्क सामग्री के माध्यम से शेयर बाजार के बारे में सीखना होगा।

Free Course से शेयर बाजार कैसे सीखें

ऑनलाइन कई ऐसी Website हैं जो शेयर बाजार से जुड़े कई Course Free में उपलब्ध कराती हैं; आपको उन Course में enroll कर लेना है और फिर उससे शेयर मार्किट के बारे में सीखना है।

ऑनलाइन शेयर बाजार सीखने के Paid तारिके

  • प्रीमियम कोर्स
  • Ebook से
  • मेंटरशिप से
प्रीमियम कोर्स से शेयर बाजार कैसे सीखें

अगर आप प्रीमियम कोर्स से शेयर बाजार के बारे में सीखना चाहते हैं तो ऑनलाइन ऐसी कई वेबसाइट हैं जो स्टॉक मार्केट से रिलेटेड कोर्स बेचती हैं। आपको उन वेबसाइटों पर जाना है और उन लोगों से कोर्स खरीदना है जो इस क्षेत्र में पेशेवर हैं, जिनके बारे में आप जानते हैं, और जो आपको कोई माध्यम की सुविधा देते हो ताकि आप उनसे शेयर बाजार से संबंधित किसी भी प्रश्न को पूछ सके।

शेयर बाजार से रिलेटेड कई नकली कोर्स भी बेचे जाते है जिसके अन्दर न ही ज्यादा वैल्यू होती है और न ही वो लोग कोई माध्यम की सुविधा देते है जिससे आप अपने प्रश्नो को पूछ सके।

Ebook से शेयर मार्केट कैसे सीखें

यदि आपके पास शेयर बाजार से संबंधित पुस्तकें खरीदने के लिए पैसे नहीं हैं, तो आप Ebook खरीद सकते हैं, जिसमें आपको कम पैसे में समान मूल्य मिलता है और जीवन भर के लिए एक्सेस मिलता है।

मेंटरशिप से शेयर मार्केट कैसे सीखें

मेंटरशिप का मतलब है कि आप एक प्रोफेशनल से शेयर बाजार सीखते हैं, जो आपको शेयर बाजार के बारे में अलग से गाइड करता है ताकि आप गलत निर्णय न लें और आपको कुछ ऐसे तरीकों के बारे में भी बताते हैं जिससे आप शेयर बाजार को जल्दी सीख सकते हैं। यह हर समय आपकी मदद करता है और आपके हर सवाल का जवाब देता है।

ऑफलाइन शेयर बाजार सीखने के तरीके

ऑफ़लाइन, शेयर बाजार सीखने के लिए ज्यादा विकल्प नहीं हैं, और यदि विकल्प हैं भी, तो वे बहुत महंगे हैं, जो हर कोई नहीं खरीद सकता। नीचे कुछ विकल्प दिए गए हैं, जिनमें से कुछ मुफ्त हैं और कुछ का भुगतान किया जाता है।

ऑफलाइन शेयर बाजार सीखने के नि:शुल्क तरीके

  • सलाहकार से
सलाहकार से शेयर मार्केट कैसे सीखें

सलाहकार से सीखने का मतलब है कि आपका दोस्त, रिश्तेदार या कोई व्यक्ति जो बिना पैसे लिए अपना ज्ञान आपके साथ साझा कर सकता है, उसे सलाहकार कहा जाता है जो आपको शेयर बाजार सीखने में मदद करेगा, जिसके चलते आप बिना पैसे खर्च शेयर बाजार सिख सकते हैं

ऑफलाइन शेयर बाजार सीखने के भुगतान तरीके

  • किताबों से
  • कोचिंग संस्थान से
किताबों से शेयर मार्केट कैसे सीखें

जैसे आप अपने स्कूल के समय में किताबों के माध्यम से शिक्षा प्राप्त करते थे, उसी तरह आपको शेयर बाजार का ज्ञान प्राप्त करने के लिए कई किताबें पढ़नी पड़ती हैं, जिससे आप शेयर बाजार सीख सकते हैं।

किताबो से सिखने का हमें यह लाभ होता है की हमें दुसरो के अनुभव से सिखने को मिलता है और जो गलतिया उन्होंने अपने जीवन में की थी उस गलतियों को हम फिर से ना दोहराये इसकी जानकारी मिलती है जो किसी कोर्स में देखने को नहीं मिलता

इसके लिए आपको कई किताबें पढ़नी होंगी ताकि आप शेयर बाजार के विभिन्न पहलुओं को जान सकें।

कोचिंग संस्थान से शेयर मार्केट कैसे सीखें

किसी कोचिंग इंस्टिट्यूट से सीखने का मतलब है कि आप स्टॉक मार्केट सीखने के लिए कोई कोर्स करें, जिसकी फीस बहुत ज्यादा हो सकती है, जिसे हर कोई अफोर्ड नहीं कर सकता, लेकिन यहां आपको लाइव सीखने को मिलता है, साथ ही आपके कई दोस्त भी बनेगे जो शेयर बाजार को सिख रहे होंगे, जिनके साथ आप शेयर बाजार के बारे में चर्चा कर सकते हैं।

शेयर मार्केट से पैसे कैसे कमाए

शेयर बाजार में पैसा कमाने के कई तरीके हैं, लेकिन सबसे प्रसिद्ध तरीका निवेश और ट्रेडिंग है।

निवेश करने से हम लंबी अवधि में पैसा कमाते हैं, जिसमें हमें कई सालों का इंतजार करना पड़ता है पर इसमें पैसे खोने का जोखिम कम होता है।

ट्रेडिंग में, हम कम समय में पैसा कमा सकते हैं, जिसमें कुछ मिनट से लेकर कुछ दिन का समय लगता हैं, लेकिन इसमें पैसा खोने का जोखिम भी अधिक होता है। फिर भी, अधिकांश लोग शेयर बाजार से पैसा कमाने के लिए ट्रेडिंग करते हैं।

इन दोनों तरीकों से पैसे कमाने के लिए हमने एक अलग पोस्ट तैयार की है जिसे आप यहाँ से पढ़ सकते हैं।

शेयर मार्केट के फायदे और नुकसान

यहां हमने शेयर बाजार के कुछ फायदे और नुकसान का जिक्र किया है ताकि आप भी इससे परिचित हो सकें और यह सुनिश्चित कर सकें कि आपको इसमें शामिल होना चाहिए या नहीं।

शेयर मार्केट के फायदे

यहां हमने शेयर बाजार के कुछ फायदों के बारे में बताया है ताकि आप यह जान सकें कि शेयर बाजार में आने से आपको क्या-क्या फायदे हो सकते हैं।

1. शॉर्ट-टर्म में अधिक पैसे कमाने की संभावना

शेयर बाजार में निवेश करने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसमें बैंक, एफडी या बचत खाते की तुलना में कम समय में अधिक मुनाफा कमाने की संभावना रहती है।

2. कंपनी में हिस्सेदारी मिलना

जब भी हम किसी कंपनी के शेयरों में निवेश करते हैं तो हम उस कंपनी के शेयरधारक बन जाते हैं जिससे हमें उस कंपनी के लाभ और हानि में हिस्सा मिलता है।

शेयरों में निवेश करने से कंपनी हमें वोटिंग अधिकार देती है और हमें लाभांश और बोनस का लाभ भी मिलता है।

3. हाई लिक्विडिटी का फायदा

उच्च तरलता का मतलब है कि हम कितनी आसानी से किसी शेयर को खरीद और बेच सकते हैं और यह सुविधा हमें स्टॉक एक्सचेंज के माध्यम से मिलती है।

4. हमारे अधिकार को SEBI द्वारा संरक्षित किया गया है।

SEBI भारतीय शेयर बाजार को नियंत्रित करता है, जहां यह निवेशकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए ब्रोकर, सब ब्रोकर, एडवाइजर और स्टॉक एक्सचेंजों जैसे बाजार सहभागियों की निगरानी करता है।

5. टैक्स के लाभ मिलना

जब हम लंबी अवधि के लिए निवेश करते हैं, जिसकी समय सीमा 12 महीने से अधिक होती है, तो हमें 1 लाख रुपये से ऊपर के निवेश पर 10% का लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन टैक्स देना पड़ता है।

और जब हम छोटी अवधि के लिए निवेश करते हैं, जिसकी समय सीमा 12 महीने से कम है, तो हमें निवेश पर 15% और 3% सेस के साथ शार्ट टर्म कैपिटल गेन टैक्स देना पड़ता है।

और अगर आपको शेयर बाजार में घाटा होता है तो आप आठ वित्तीय वर्षों तक ऑफसेट या कैरी फॉरवर्ड कर सकते हैं।

शेयर मार्केट के नुकसान

यहां शेयर बाजार के कुछ नुकसान बताए जा रहे हैं, जिनसे आपको अंदाजा होगा कि शेयर बाजार में जोखिम क्या और कहां हो सकता है।

1. हाई वोलैटिलिटी का डर

हाई वोलैटिलिटी का मतलब है कि शेयर की कीमत में बहुत तेजी से उतार-चढ़ाव होता है, और ऐसा तब होता है जब कोई बुरी खबर आने वाली होती है, जिससे शेयर की कीमत तेजी से गिरने लगती है, जिससे शॉर्ट-टर्म निवेशक को कई बार नुकसान उठाना पड़ता है।

2. ओवर नाईट रिस्क

जो लोग शॉर्ट-टर्म ट्रेडिंग करते हैं वे अच्छी तरह जानते हैं कि ओवरनाइट रिस्क क्या होता है।

ऐसे में अगर आप किसी पोजीशन को होल्ड करते हैं तो हमेशा यह डर बना रहता है कि कहीं रातों-रात कोई गलत खबर न आ जाए, जिससे शेयर की कीमत गिरने लगे और जिन लोगों ने शॉर्ट-टर्म पोजीशन बनाई है उन्हें नुकसान होने लगे।

ओवर नाईट रिस्क दो प्रकार के होते हैं
  1. व्यवस्थित रिस्क (systematic risk)
  2. अव्यवस्थित रिस्क (unsystematic risk)
व्यवस्थित रिस्क क्या है

व्यवस्थित जोखिम वह जोखिम है जिसे नियंत्रित नहीं किया जा सकता है और यह पूरे बाजार को प्रभावित करता है, जैसे Interest Risk, Market Risk and Purchasing Power Risk

प्राकृतिक आपदाएँ, राजनीतिक उथल-पुथल, आतंकवादी हमले आदि व्यवस्थित जोखिम आने के कारण हैं।

अव्यवस्थित रिस्क क्या है

अव्यवस्थित जोखिम वह जोखिम है जिसे नियंत्रित किया जा सकता है और यह किसी व्यवसाय या कंपनी को प्रभावित करता है, जैसे कि business risk and financial risk।

अव्यवस्थित जोखिम का कारण कंपनी का खराब प्रदर्शन या इसके बारे में गलत खबर हो सकती है।

3. स्टॉकहोल्डर को अंतिम में भुगतान मिलना

जब कोई कंपनी किसी कारणवस बंद हो जाती है, तो शेयरधारकों को अंतिम भुगतान किया जाता है।

लेकिन कंपनी के बांडधारकों और लेनदारों को पहले भुगतान किया जाता है।

4. शेयर के प्रति इमोशनल अटेचमेंट

जब हम किसी शेयर में ट्रेडिंग करते हैं तो कभी-कभी अधिक वोलैटिलिटी के कारण शेयर की कीमत गिरने लगती है, लेकिन भावनात्मक लगाव के कारण हम इससे बाहर नहीं निकल पाते हैं, जिससे हमें और नुकसान होता है।

हमें लगता है कि अब उस शेयर की कीमत ऊपर आ जाएगी, लेकिन ऐसा नहीं हो पाता, जिससे हमारा नुकसान होता चला जाता है और यह सब भावनात्मक लगाव के कारण होता है।

शेयर की कीमत कैसे बढ़ती या घटती है

  • शेयर बाजार में किसी शेयर की कीमत के बढ़ने और घटने के पीछे डिमांड और सप्लाई का हाथ होता है।
  • और यह डिमांड और सप्लाई buyers and sellers की उपस्थिति में बनती है।
  • जब buyers अधिक होते हैं, तो शेयर की कीमत बढ़ने लगती है, जिसे अपट्रेंड या बुलिश मार्केट कहा जाता है।
  • और जब sellers की मात्रा अधिक होती है, तो शेयर की कीमत गिरने लगती है, जिसे मंदी या मंदी का बाजार कहा जाता है।
  • और इसी डिमांड और सप्लाई के कारण शेयर की कीमत ऊपर नीचे होती रहती है।

शेयर बाजार के नियम

यहां शेयर बाजार के कुछ नियम दिए गए हैं जिससे आप अपने व्यापारिक जीवन में ऐसी गलतियां करने से बच सकते हैं।

  • शेयर बाजार एक जोखिम से भरी मार्केट है जिसमें उधार के पैसे का निवेश नहीं करना चाहिए।
  • शेयर बाजार में निवेश करने के लिए हमेशा बचत पैसे का उपयोग करें।
  • किसी की सलाह पर ट्रेडिंग ना करें।
  • अपनी रिसर्च के दम पर ही शेयर मार्केट में ट्रेडिंग करें।
  • SEBI के नियमों का पालन करें।
  • शेयर बाजार में प्रवेश करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण है सही ब्रोकर का चुनाव करना और उसके साथ एक ट्रेडिंग और डीमैट खाता खोलना।
  • अगर आप शेयर बाजार में नए हैं तो कम पैसों से ट्रेडिंग करें ताकि शुरुआत में ज्यादा नुकसान ना हो।
  • ट्रेडिंग करते समय स्टॉप लॉस का उपयोग करना सुनिश्चित करें ताकि आपके नुकसान सीमित हो सकें।
  • अलग-अलग स्टॉक्स में निवेश करके उसका एक पोर्टफोलियो बनाएं ताकि वह आपके प्रॉफिट और लॉस को मैनेज कर सकें।
  • किसी भी स्टॉक में ट्रेडिंग करते समय, अपने रिस्क को सुनिश्चित करे, जो यह निर्धारित करेगा कि आप कितना नुकसान उठा सकते हैं।
  • बिना सोचे समझे ट्रेडिंग ना करें क्योकि इससे आपको ही नुकसान होगा।
  • ट्रेडिंग के समय ट्रेंड के अनुसार ट्रेड करें।
  • शेयर बाजार के बारे में दैनिक अपडेट प्राप्त करते रहें, जिससे आपको यह जानने में मदद मिलेगी कि बाजार में क्या चल रहा है।

शेयर बाजार की किताब हिंदी में

यहां शेयर बाजार से जुड़ी कुछ हिंदी किताब के बारे में बताया गया हैं, जिन्हें पढ़कर आप शेयर बाजार के बारे में अपनी समझ बढ़ा सकते हैं।

  • Investonomy
  • The Intelligent Investor
  • Share Market Guide
  • The Dhandho Investor
  • Stock To Riches
  • One Up on Wall Street
  • psychology of wealth
  • Value Investing and Behavioral Finance
  • Common Stocks and Uncommon Profits
  • Technical analysis and candlestick recognition
  • How to plant a money tree with option trading
  • How to avoid loss in stock market and become rich
  • Learn to invest in the stock market from Buffett and Graham
  • How to Avoid Loss and Earn Consistently in the Stock Market

दुनिया के प्रमुख शेयर मार्केट

यह दुनिया के 7 सबसे बड़े स्टॉक एक्सचेंज है।

  • बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (Bombay Stock Exchange)
  • नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (National Stock Exchange)
  • NASDAQ
  • टोक्यो स्टॉक एक्सचेंज (Tokyo Stock Exchange)
  • लंदन शेयर बाज़ार (London Stock Exchange)
  • शंघाई स्टॉक एक्सचेंज (Shanghai Stock Exchange)
  • हांगकांग स्टॉक एक्सचेंज (Hong Kong Stock Exchange)

शेयर बाजार में मौजूद एक्सचेंज को शेयर बाजार कहा जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि शेयरों का लेन-देन इन्ही के द्वारा किया जाता है और शेयर बाजार का अर्थ ही है शेयरों में कारोबार करना; इसलिए, इसे शेयर बाजार कहा जाता है।

शेयर मार्केट कैसे सीखें इन हिंदी

शेयर बाजार के बारे में जानने के लिए सबसे पहले आपको इसके बेसिक्स के बारे में जानना होगा, जैसे

1. शेयर मार्केट क्या है?
2. शेयर बाजार कैसे काम करता है?
3. आईपीओ क्या है?
4. एनएसई और बीएसई क्या हैं?
5. शेयर बाजार कितने प्रकार के होते हैं?
6. शेयर बाजार में निवेश क्या है?
7. शेयर बाजार में ट्रेडिंग क्या है?
8. तकनीकी विश्लेषण क्या है?
9. मौलिक मानसिक विश्लेषण क्या है?
10. ट्रेडिंग मनोविज्ञान क्या है?
11. डीमैट और ट्रेडिंग खाते क्या हैं?
12. शेयर बाजार के क्या फायदे और क्या नुकसान हैं आदि।

और इन सब के बारे में जानने के लिए आपको बहुत सारे YouTube वीडियो, ब्लॉग, किताबें और कोर्स के माध्यम से सीखना होगा। तब आप शेयर बाजार के बारे में सीख पाएंगे और साथ ही साथ इसका रोजाना अभ्यास करते रहें ताकि आप इसमें पारंगत हो जाएं।

शेयर और स्टॉक में क्या अंतर है?

शेयर और स्टॉक में सिर्फ इतना ही अंतर होता है कि शेयर में हम किसी एक कंपनी के शेयर की बात कर रहे होते हैं, जबकि स्टॉक में हम कई सारी कंपनियों के शेयरों में निवेश करने की बात कर रहे होते हैं।

मुझे किस कंपनी के स्टॉक में निवेश करना चाहिए?

अगर आप स्टॉक मार्केट में नए हैं तो आपको ब्लूचिप स्टॉक्स में निवेश करना चाहिए और ये ब्लूचिप स्टॉक्स आपको निफ्टी 50 में देखने को मिलेंगे

शेयर बाजार में कितना पैसा निवेश किया जा सकता है?

शेयर बाजार में आप 1 रूपये से लेकर जितने चाहे उतने रूपये निवेश कर सकते है इसमें निवेश करने की कोई लिमिट नहीं है

शेयर मार्केट में क्या कारोबार होता है

शेयर मार्केट में शेयर, बॉन्ड, म्यूचुअल फंड और डेरिवेटिव आदि का कारोबार होता है

शेयर मार्केट की शुरुआत कैसे हुई?

शेयर बाजार की शुरुआत 22 लोगों ने एक बरगद के पेड़ के नीचे 1 रुपए की एंट्री फीस से की थी और फिर धीरे-धीरे यह संख्या 318 लोगों तक पहुंच गई।

कैसे एक कंपनी शेयर मार्केट में सूचीबद्ध होती है

किसी भी कंपनी को शेयर बाजार में लिस्ट होने के लिए सबसे पहले IPO फाइल करना होता है। IPO यानी (इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग), जिसमें वह शेयर बाजार में पहली बार आम जनता को अपने शेयर और बॉन्ड ऑफर करता है ताकि निवेशक उनमें निवेश कर सकें। आईपीओ के बाद यह कंपनी एनएसई और बीएसई एक्सचेंजों के जरिए शेयर बाजार में सूचीबद्ध हो जाती है।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज की स्थापना कब हुई

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज की स्थापना 1992 में हुई थी।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के अध्यक्ष कौन है

गिरीश चंद्र चतुर्वेदी नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के अध्यक्ष हैं और आशीष कुमार चौहान इसके प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का मुख्यालय कहां है

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का मुख्यालय मुंबई में स्थित है।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के कार्य क्या हैं

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के कई कार्य होते हैं जैसे:

1. निवेशकों को व्यापार के लिए एक डिजिटल पारदर्शी और तरल मंच प्रदान करना,
2. सभी ऋण-आधारित उपकरण,
3. ट्रेडिंग सेवाओं के लिए लिस्टिंग,
4. समाशोधन और निपटान सेवाएं,
5. सूचकांक आदि

भारत का सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज कौन सा है?

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज भारत का सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज है। इसकी स्थापना 1875 में मुंबई में हुई थी

Conclusion: Share Market Kya Hai in hindi

इस पोस्ट में, हमने शेयर मार्केट क्या है की बारीकियों के बारे में बात की है और इसके साथ ही कई अन्य पहलुओं जैसे कि शेयर मार्केट कैसे काम करता है, हम शेयर मार्केट के बारे में कैसे सीख सकते हैं, शेयर बाजार में ट्रेडिंग और निवेश कैसे करें, और इसके फायदे और नुकसान और भारत में कितने शेयर बाजार है आदि के बारे में बात की है, इसके जरिये आपके कई सवालों का जवाब मिल गया होगा।

मुझे उम्मीद है कि यह पोस्ट आपके लिए शेयर बाजार को समझने में मददगार साबित होगी। अगर इस पोस्ट से सम्बंधित आपका कोई भी सवाल है तो आप हमें कमेंट के जरिये पूछ सकते है हम आपके सभी सवालों के जवाब देने में मदद करेंगे

शेयर बाजार के बारे में अपडेट पाते रहने के लिए इस वेबसाइट को सब्सक्राइब करना न भूलें।

धन्यवाद

5/5 - (1 vote)

Leave a Comment